इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

मंगलवार, 16 सितंबर 2014

गोलू बुलबुल इन कनक घाटी , जयपुर



अभी कुछ समय पहले ही बुलबुल और गोलू अपने चाचा जी के यहां जयपुर घूमने गए थे ऐसे में कनक घाटी ,जयपुर में पूरा परिवार पिकनिक मनाने , घूमने , झूला झूलने और मस्ती करने न जाए ऐसा कैसे हो सकता है भला , और देखिए क्या क्या मस्ती मची बस्ती में

कनक घाटी का नोटिस बोर्ड


सबसे पहले पेट पूजा की जाए , चाचा चाची के साथ बुलबुल एंड कंपनी

चलो अब जरा पींगे मारी जाएं



ये लो मैं बैठ गई इस तबले वाले झूले पर भी

अरे वाह , ये तो खूब उछलता है

जरा अब इसमें घुस कर देखा जाए ये क्या है

गुगु भईया आपको समझ में आया ये क्या है

रुको मैं स्पीड से इसका एक चक्कर लगाती हूं शायद कुछ पता चले

दफ़ा करो ...इस वाले को ट्राई करके देखते हैं , भईया तो आसन जमा के बैठ गए हैं

मुश्किल वक्त , कमांडो सख्त

कदम कदम बढाए जा

और बढाए जा

गुगु भईया के साथ बुलबुल

और ये रहा ग्रीन कार्पेट
 आखिर की सारी उठापटक , कूदम कूद , पकडम पकडाई इसी ग्रीन कार्पेट पर खेल खेल कर कनक घाटी को सर पर उठा लिया पूरी बच्चों की पूरी फ़ौज ने , तो जब भी जयपुर जाना इस कनक घाटी में जरूर खेलने जाना . ...........प्रॉमिस

4 टिप्‍पणियां:

  1. बच्चों की पिकनिक ..मजे ही मजे
    बहुत बढ़िया चित्रमय प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बहुत शुक्रिया और आभार कविता रावत जी

      हटाएं
  2. गोलू बुलबुल बड़े हो गए हैं :)
    खूब एन्जॉय कर हैं..... God Bless

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया डा साहिबा ..हां बच्चों को बढते देर कहां लगती है

      हटाएं