इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

रविवार, 12 सितंबर 2010

गाए गोलू, नाचे बुलबुल....

बहुत दिनों से सोच रहा था कि अपने दोनों बच्चों , यानि गोलू जी (आयुष ) और गुडिया , बुलबुल (अदिति ) के लिए एक ब्लॉग अलग से बनाया जाए , जिसमें उनकी नटखट शैतानियां , उनकी प्यारी तस्वीरें ...और उनसे जुडी तमाम बातें यादें समेट कर भविष्य के लिए उन्हें तोहफ़े के रूप में सहेज़ सकूंगा ... योजना स्कैन मशीन और कुछ कारणों से रुकी हुई थी अब जबकि मैं इन सबसे लैस हूं तो फ़िर शुभ कार्य में देरी क्यों ॥है ॥लीजीए ...


( बहुत पहले खींची गई एक धुंधली तस्वीर )

गोलू जी इन मॉडल लुक

चहकती हुई बुलबुल



यहां मैं बताता चलूं कि ये दोनों , एक साथ मिल जाएं तो , सौ एंटरटेन्मेंट चैनल एक साथ दिखाते हैं , वो बिना रिमोट हिलाए डुलाए ....और हां मुझे इनके सैल भी नहीं बदलने पडते ।

10 टिप्‍पणियां:

  1. हा हा हा बहुत अच्छा किया अपने यह ब्लाग बनाकर

    अब इन पर भी ध्यान देना पड़ेगा।

    गोलु बुलबुल को प्यार और आशीष

    उत्तर देंहटाएं
  2. इनमें सैल होते भी नहीं हैं। ये बेसैल ही सैलों से अधिक की क्षमता से युक्‍त और ऑटो प्रोग्रामिंगयुक्‍त होते हैं। स्‍वागत है आपका, इस नए ब्‍लॉग के साथ। तकनीक के नए साधनों से लैसहोकर आपका आना अच्‍छा लगा और आपके छाने की इंतजार में हूं।

    अच्‍छा बच्‍चों के ब्‍लॉग बनाए गए हैं। इसलिए वर्ड वैरीफिकेशन छोड़ दिया गया है। बहुत सुंदर।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आयु्ष, अदिति की जोड़ी में कोई 'तीसरी' दखलंदाज़ी न हो
    इंटरटेनमेंट चैनल यूँ ही हंसते खिलखिलाते गुदगुदाते रहें

    ढ़ेर सारा प्यार और आशीर्वाद

    ऊर्जावान 'लाईफ लॉँग बैटरी सेट' को भी बधाई :-)

    उत्तर देंहटाएं
  4. चलिए बच्चों का भी ब्लॉग बन गया...सही है..
    गोलू और बुलबुल बड़े प्यारे लग रहे हैं भैया.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये बढ़िया किया आपने...इससे यादें हमेशा के लिए जिंदा रह पाएंगी ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह जी वाह बहुत खूब ये काम तो पहले हो जाना चहिये ,,,, दोनो बच्चो को मेरा अशीर्वाद्

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये कोई बात हुई ना!
    अब बेटे बेटी से मिलने का हमें अवसर मिलता रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बढिया--
    मैं बजाउं,गोलू गाये,बुलबुल,नाचे,और हम देखें..
    ...................................स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  9. "यहां मैं बताता चलूं कि ये दोनों , एक साथ मिल जाएं तो , सौ एंटरटेन्मेंट चैनल एक साथ दिखाते हैं , वो बिना रिमोट हिलाए डुलाए ....और हां मुझे इनके सैल भी नहीं बदलने पडते ।"

    समझ सकता हूँ !जिनके बापू बिना सेल के ही इतना बढ़िया मनोरंजन करने की क्षमता रखते है तो पुत्तर तो सवा सेर होंगे ही :)

    उत्तर देंहटाएं