इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

बुधवार, 22 सितंबर 2010

बरसे बदरिया.....गाए बुलबुलिया ......



जी हां , मेरे अंगना बदरा बरस रहे हैं ...घन घन घन घन ...छम छम छम छम ......और उस बदरा में मेरे अंगना की बुलबुल खूब चहक रही है ...नाच रही है झूम रही है ...और हां बीच बीच में ड्रिंक्स भी भई ......और क्लोजअप स्माईल तो है ही .............




4 टिप्‍पणियां:

  1. वाकई में.... क्लोजअप स्माईल तो है ही ........

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या कहने इस सुन्दर मुस्कान को देख कर ही मुस्कान आजाती है .....ये स्माइल सदा बनी रहे
    नन्ही ब्लॉगर
    अनुष्का

    उत्तर देंहटाएं