इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

रविवार, 10 अक्तूबर 2010

लैट्स हैव गॉगल्स ऑन माई हेड ...एंड फ़ायनली एट ..माय आईज़..



आज पापा के गॉगल्स को ही ट्राई किया जाए कि आखिर ये लगता कैसे है ...ऐसे ट्राई करती हूं पहले ..



ओहो चलो इस एंगल से ट्राई कर लेती हूं अभी कौन सा पापा आ रहे हैं .....



देखूं तो जरा ऐसे ठीक लग रहा है क्या ,,,वैसे मेरी छोटी से खोपडी के ऊपर फ़िट तो बराबर हो रहा है ये ..




..हैल्लो हाय ...देखना तो जरा अब तो बिल्कुल सही फ़िट किया है मैंने ....







हो गया आज का मिशन पूरा ....अब कल की खुराफ़ात कल

7 टिप्‍पणियां:

  1. बिटिया रानी तो बड़ी क्यूट लग रही हैं..आशीर्वाद.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब ले लो पापा से ये चश्मा..उनको कहो दूसरा खरीद लें अपने लिए...:)

    उत्तर देंहटाएं
  3. पापा का चश्मा बढ़िया है ना!
    --
    आपकी पोस्ट की चर्चा यहाँ भी है!
    http://mayankkhatima.blogspot.com/2010/10/22.html

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत स्मार्ट हैं यह ग्लासेस तो.... आगे की खुरापात का इंतजार रहेगा........

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी प्रस्तुति .
    विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाएं .

    उत्तर देंहटाएं