इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

सोमवार, 28 मार्च 2011

गोलू की चित्रकारी


एक पौधा जो कह रहा है मुझे पानी दो      


ये देखिए नए डिजायन के चंदा मामा ...अमां  ये कौन सा शेप है ..



उडी उडी रे पतंग मेरी उडी उडी रे ..................

 खुद को बचाने की अपील करता एक मुस्कुराता सा प्यारा पौधा     



इसमें विचार भी उसके हैं ....कंप्यूटर की कूची भी उसकी ही है और रंग भी ...मेरा कुछ है तो ..मेरी खुशी , मेरा सपना ....है न सुंदर ..मिलिए गोलू जी से ..

गोलू  जी पोज़ मारते हुए .........मेरा पुत्र आयुष 

9 टिप्‍पणियां:

  1. वाह! क्या कल्पना है ----पानी मांगता पौधा...लाल चोंच वाला चाँद....हरे आसमान में उड़ती पतंग.....और बचाओ..बचाओ चिल्लाता मुस्कुराता प्यारा-सा पौधा..और ऐसी कल्पना के बाद हमारा हीरो.....खुशी सिर्फ़ आपको ही नहीं हमें भी मिली है ...शुक्रिया.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल्पनाओं के अथाह समुन्दर में अभी से गोते लगाने की तैयारी है...बहुत बढ़िया...लगे रहो

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा. हिंदी लेखन को बढ़ावा देने के लिए आपका आभार. आपका ब्लॉग दिनोदिन आप अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
    danke ki chot par

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर है .....गोलू भैया आप तो एक दम हीरो लग रहे हो :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. पूरा दांत चियरले हैं पेड़वा :D

    उत्तर देंहटाएं